22 Heart Touching Hindi Shayari By Piyush Mishra! हिंदी शायरी

Heart Touching Hindi Shayari  is loved and praised by many readers and followers. There are so  many renowned shayars (poets) but few are remembered for their work in literature, because some of the work is triggered to the audience.

Piyush Mishra is also one of the most famous names of hindi shayari lovers. He has written so many lyrics for bollywood film industry. Piyush Mishra has written so many heart touching hindi shayari (poems) and heart touching hindi shayari (lyrics) for bollywood Industry.

Following are some of the heart touching hindi shayari by Piyush Mishra, hope you enjoy…

Heart Touching Hindi Shayari by Piyush Mishra! हिंदी शायरी

 

22 Heart Touching Hindi Shayari By Piyush Mishra! हिंदी शायरी

Heart Touching Hindi Shayari

न जाने कब खर्च हो गए पता ही नहीं चला

वो लम्हे जो बचाकर रखे थे जीने के लिए।

– पियूष मिश्रा

na jaane kab kharch ho gaye patahi nahi chala

lo lamhe jo bachakar rakhe the jine ke liye.

Piyush Mishra

 

इश्क़ की राह भी अजब है

किसी और का सिखाया इश्क़

किसी और से करना पड़ता है।

पियूष मिश्रा

ishk ki raha bhi ajab hai

kisi aur ka sikhaya ishk

kisi aur se karne padta hai.

Piyush Mishra

ए उम्र कुछ कहा मैंने

तूने सुना नहीं?

तू छीन सकती है बचपन मेरा

मगर बचपना नहीं।

पियूष मिश्रा

ay umra kuch kaha maine

tune suna nahi?

tu cheen sakti hai bachpan mera

magar bachpana nahi.

Piyush Mishra

 

22 Heart Touching Hindi Shayari By Piyush Mishra! हिंदी शायरी

Heart Touching Hindi Shayari

सुकून मिलताहै दो लफ्ज़ कागज पर उतार कर

चीख भी लेता हूँ और आवाज़ भी नहीं होती।

पियूष मिश्रा

sukun milta hai do lafz kagaz par utarkar

Cheekh bhi leta hoo aur aawaj bhi nahi hoti.

Piyush Mishra

 

कागज़ के नोटोंसे किस किस को खरीदोगे

यहाँ किस्मत परखने के लिए आज भी

सिक्का ही उछाला जाता है।

पियूष मिश्रा

kagaj ke noton se kis kis ko kharidoge

yahan kismat parkhne ke liye aaj bhi

sikka hi uchala jata hai.

Piyush Mishra

आज मैंने फिर जज़्बात भेजे

आज तुमने फिर अल्फाज़ ही समझे।

पियूष मिश्रा

aaj maine pheer jajbat bheje

aaj tune pheer alphaz hi samjhe.

– Piyush Mishra

Piyush Mishra Quotes- कुछ इश्क किया कुछ काम किया किताब की कुछ पंगतियाँ।

अजीब दस्तूर है मोहब्बत का

रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है।

पियूष मिश्रा

ajeeb dastoor hai mohobaat ka

rooth koi jata hai, toot koi jaata hai.

Piyush Mishra

 

इलाइची के दानो सा मुक्कद्दर है अपना

महकः उतनीही बिखरी ,

पिसे गए जितना।

पियूष मिश्रा

ilaichi ke danosa mukaddar hai apna

mahak utnihi bikhari

pise gaye jitna.

Piyush Mishra

 

हलकी फुल्की सी है जिंदगी

बोज तो ख्वाहिशोका है।

पियूष मिश्रा

halki phulki si hai jindagi

boj to kwahison ka hai.

Piyush Mishra

 

कल तक उडतीथी जो मुँहपर

आज पैरोंसे लिपट गयी,

चन्द बूंदे क्या बरसी बरसातकी

धुल की फितरत बदल गयी।

पियूष मिश्रा

kaltak udti thi jo muha par

aaj paironse lipat gayi,

chand boode kya barsi barsat ki

dhool ki bhitrat badal gayi.

Piyush Mishra

उमरभर उठाया बोज उस ख़ील ने,

और लोग तारीफ उस तस्वीर की करते रहे।

पियूष मिश्रा

umarbhar uthaya boj us khil ne

aur log taarif us tasveer ki karte hai.

Piyush Mishra

 

हाय रे सिक्कोंकी झंकार

साथ में दबी चवन्नी।

पियूष मिश्रा

hi re sikkon ki jhankar

saath me dabi chavvani.

Piyush Mishra

 

इंसान खुद की नज़र में खुश होना चाहिए

दुनिया तो भगवन से भी दुखी है।

पियूष मिश्रा

insaan khudki nazarme khush hona chakiye

dhuniya to bhagwan se bhi dukhi hai.

Piyush Mishra

Piyush Mishra – कुछ इश्क किया कुछ काम किया किताब की कुछ पंगतियाँ। पृष्ठ दो

मैं अब तुमसे कुछ नहीं मांगता ए खुदा

तेरी देकर छीन लेने वाली आदत मुझे मंज़ूर नहीं।

पियूष मिश्रा

mai ab tumse kuch nahi mangta ye khuda

teri dekar chin lene wali aadat mujhe manzoor nahi.

Piyush Mishra

 

औकात नहीं थी जमानेमे जो मेरी कीमत लगा सके

कम्बख्त इश्क़ में क्या गिरे, निलाम हो गए।

– पियूष मिश्रा

aukat nahi thi jamaneme jo meri keemat laga sake,

kambakht ishk me kya gire, nilam ho gaye.

Piyush Mishra

 

दर्द की बारिश में हम अकेले ही थे

जब बरसी खुशियां, ना जाने भीड़ कहाँ से आ गयी।

– पियूष मिश्रा

daar ki baarish me haam akelehi the

jab barsi khushiyan, na jane bhid kahan se aa gayi.

Piyush Mishra

 

दायरा हर बार बनाता हूँ जिंदगी के लिए

लकीरे वही रहती है, मैं खिसक जाता हूँ।

पियूष मिश्रा

dayra har bar banata hoon jindagi ke liye

lakiren wahi rahti hai, mai khisak jata hoon.

Piyush Mishra

Piyush Mishra Poetry – कुछ इश्क किया कुछ काम किया – कुछ पंगतियाँ। पृष्ठ तीन

मैं हरदम जिन्दा रहनेका, ये राज़ तुम्हे बतलाता हूँ

रिश्ते मैं चन्द बनाता हूँ , पर दिलसे उन्हें निभाता हूँ।

पियूष मिश्रा

mai hardam jinda rahaneka, ye raaz tumhe batlata hoon,

rishte mai chand banata hoo, par dilse unhe nibhata hoon.

Piyush Mishra

यहाँ रोटी नहीं उम्मीद सबको जिन्दा रखती है ,

जो सड़कोंपर भी सोते है , सिरहाने ख्वाब रखते है।

पियूष मिश्रा

yaahan roti nahi ummid sabko jinda rakhti hai,

jo sadkon par bhi sote hai, sirhane khwab rakhte hai.

Piyush Mishra

 

आओ यार फिर एक बार जिन्दा हो ,

बात करले.  खाक हो गये है मज़ाक

फिरभी मज़ाक करले।

पियूष मिश्रा

aao phir ek baar jinda ho,

baat karle. khak ho gaye hai mazak

phibhi mazak karle.

Piyush Mishra

 

माना की यूँ सिकंदर

कलके हो जाओगे,

मैं कहूँ की रो दो,

हलके हो जाओगे।

पियूष मिश्रा

mana ki yu sikanddar

kalke ho jaoge,

mai kahoon ki rodo,

halke ho jaoge.

Piyush Mishra

 

नामुस्कुराने पर किसी की मोहोर नहीं है

उदासी किसीके बाप की धरोहर नहीं है।

पियूष मिश्रा

Na muskurane par kisiki mohor nahi hai,

udasi kisike baab ki dharohar nahi hai.

Piyush Mishra

Conclusion

Persistent pay, Piyush Mishra is a perfect example. He is writing poetries and songs for a very long time since he was attached to the theater. But he became popular after some of his Hindi film songs were liked by the public.

Leave a Comment