71+Shayari On Beauty By Ghalib Expressing Love And Worldliness

Shayari on beauty by Ghalib depicts some of the beautiful work of मिर्ज़ा ग़ालिब as a poet. Mirza Ghalib is known as “Asad”(lion- In Urdu and Persian language) of poets. His full name is Mirza Asadullah Baig Khan. Born in Agra during the reign of Mughal Emperor. He was a master of words and a seeker of truth. In his own words:

Beauty is in the eye of the beholder, they say. But what if that “beholder” is you? What if you could see beauty in everything, in every moment? In this article, we’ll explore the beauty of life, as seen through the eyes of one of the most brilliant poets to ever grace our world.

We’ll explore some of Ghalib’s most insightful thoughts on beauty, and how we can learn to see the beauty in everything around us.

Mirza Ghalib is one of the most renowned and famous Urdu poets. He was born in 1797 in Agra and belonged to a family of Muslim scholars. Ghalib’s poetry is full of wit, humor, and pathos. He wrote about a wide range of subjects, from love and beauty to politics and society.

Ghalib’s poetry is also renowned for its beautiful images and metaphors. In this article, we will look at some of his best shayaris on beauty. Ghalib Shayari on beauty is an amazing form of art. Shayari is a form of poetry that is often used to express feelings and emotions. When it comes to shayari, Ghalib is one of the most renowned poets of all time. He has written some beautiful pieces on the topic of beauty.

In this article, we will be looking at some of Ghalib’s best shayaris on beauty. We will also discuss the underlying meaning of these poems. So, without further ado, let’s get started.

Shayari On Beauty By Ghalib

Hum toh fanaa ho gaye aakhe dekhkar, Galib, na jane vo aaina kaise dekhte honge.

ghalib shayari on beauty | ghalib quotes on beauty

 

हम तो फ़ना हो गए आखें देखकर ग़ालिब, न जाने वो ऐना कैसे देखते होंगे।
Hai aur bhi duniya me sukhnawar bahut ache, kehte hai ki ghalib ka hai andaz-ae-bayan aur…
है और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे, कहते है के ग़ालिब का है अंदाज़ ए बयां और।
Suno, toba karo meri shayari se jitna padte jaoge mujh par marte jaoge.
सुनो तोबा करो मेरी शायरिसे जितना पड़ते जाओगे मुझपर मरते जाओगे।
Ishq ne ghalib nikamma kar diya varna hum bhi aadmi the kaam ke.
इश्क ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया वार्ना हम भी आदमी थे कुछ कामके।
Isharat-ae-katra hai dariya me fanaa ho jana dard ka hadd se guzarna hai dawa ho jana.
Magar likhaye koi uss ko khat toh hum se likhwaye huyi subah aur ghar se kaan par rakh kar qalam nikle.

Taumr bas ek yahi Sabak yaad rakhiye Ishq aur ibadat me Niyat saaf rakhiye

urdu poetry on beauty by ghalib | mirza ghalib shayari on beauty

 

तहउमरह बस एक यही सबक याद रखियें, इश्क और इबादत में नियत साफ़ रखिये

hatho ki lakiron pe mat ja ae galib naseeb un ke bhi hote hai jinke hath nahi hote

ghalib on beauty | ghalib poetry on beauty | shayari on beauty by ghalib

 

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ ग़ालिब नसीब उन के भी होते है जिनके हाथ नहीं होते

Gunah kar ke kahan jaoge Galib Ye zami ye aasmaan Sab usi ka hai

गुनाह कर के कहाँ जाओगे ग़ालिब ये ज़मी ये आसमान सब उसी का है

Mere bare me koi ray mat Banana galib Mera waqt bhi badlega Teri ray bhi

मेरे बारे में कोई राय मत बनाना गालिब मेरा वक़्त भी बदलेगा तेरी राय भी

Manzil milegi bhatak kar hi sahi gumrah to wo hain jo ghar se nikle hi nahi

mirza ghalib quotes | ghalib shayari | mirza ghalib love shayari

 

मंज़िल मिलेगी भटक कर ही सही गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं
Guzar jayega ye daur bhi galib zara itminan to rakh jab khushi na thahri to gum ki kya aukat hai

गुजर जायेगा ये दौर भी ग़ालिब ज़रा इत्मीनान तो रख जब ख़ुशी ना ठहरी तो गम की क्या औकात है

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

Ishq ne ghalib nikamma kar diya warna hum bhi aadmi the kaam ke

इश्क ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया वरना हम भी आदमी थे काम के
Hai aur bhi duniya me sukhanwar bahut acche. kahatehai ki ghalib ka hai andaze bayan aur.

mirza ghalib shayari | shayari of mirza ghalib | ghalib quotes

 

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और
ishrat-e-katra hai dariya me fana ho jana dard ka had se guzar jana hai dawa ho jana

इशरत-ऐ-कतरा है दरिया में फ़ना हो जाना दर्द का हद से गुज़र जाना है दवा हो जाना

Kisi ki kya mazal thi jo koi hume kharid sakta hum to khud hi bik gaye Khariddar Dekhakar

mirza ghalib quotes in english | mirza ghalib ki shayari | galib ki shayari

 

किसी की क्या मजाल थी जो कोई हमें खरीद सकता हम तो खुद ही बिक गए खरीददार देखकर

Mirza Ghalib Poetry In Urdu 2 Lines

Wo aaye ghar me hamare, khuda ki kudrat hai, kabhi ham aapko. kabhi apne gharko dekhtehai.
वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं! कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते हैं

Mohabbat me nahi fark jine aur marne ka, usiko dekhkar jitehai jis kafir pe dam nikle.

ghalib ki shayari | ghalib shayari on love | galib ki shayari in hindi

 

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले..!
Bijli ek kondh gayi ankhonke aage toh kya baat karte ki main lab a takrir bhi tha.
बिजली इक कौंध गयी आँखों के आगे तो क्या, बात करते कि मैं लब तश्न-ए-तक़रीर भी था।
Dil-Se-Teri-Nigah-Jigar-Tak-Utar-Gayi Dil Se Teri Nigah Jigar Tak Utar Gayi
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई। दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

Two Line Shayari Of Ghalib

har ek baat pe kahate ho tum, ki tu kya hai, tumhi kahon ki ye andaj a guftagu kyahai.

ghalib shayari on love in hindi | ghalib poetry in hindi | ghalib ki shayari in urdu

 

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है
Ishk par joor nahi hai ye wo aatish ghalib, ki lagaye na lage bujhaye na bujhe.
इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’ कि लगाए न लगे और बुझाए न बने
Iss saadgi pe kaun na mar jaye a khuda, ladtehai aur haath me talwarbhi nahi
इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Ghalib’s Best Lines On Beauty

Hamko malum hai jannat ki hakikat lekin, dil ke khush rahaneko ghalib ye khayal accha hai.

ghalib shayri | urdu shayari on beauty | ghalib shayari in hindi | ghalib quotes in english

 

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन, दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है
Ohadese madaha a naz ke bahar na aa saka, gar ek aada ho toh use apni kaza kahoon.
ओहदे से मद्ह-ए-नाज़ के बाहर न आ सका गर इक अदा हो तो उसे अपनी क़ज़ा कहूँ
Ranj Se Khugar Hua Insaan To Mit Jata Hain Ranj, Mushkile Mujh Par Padi Itani Ki Asaan Ho Gayi..
रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज। मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं।।
Gam a hasti ka “Asad” kis se ho juz marg ilaj, shama har rang me jalti hai saghar hote tak.
ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज शम्अ हर रंग में जलती है सहर होते तक

Ghalib Shayari Two Lines

Rangon me daudte phirne ke ham nahi kayal, jab ankh hi se nahi tapka toh phir lahun kya hai.

shayari ghalib | galib ki shayari on life in hindi | ghalib shayari on life

 

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है
Ghalib wazifakwar ho do shaha ko duwa, wo din gaye ki kahatethe naukar nahi hoon main.
‘ग़ालिब’ वज़ीफ़ा-ख़्वार हो दो शाह को दुआ वो दिन गए कि कहते थे नौकर नहीं हूँ मैं
Yahi hai aajmana to satana kisko kahate hai, adu ke ho liye jab tum toh mera imtehan kyon ho.
यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं, अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो

Mirza Ghalib Shayari In English 2 Lines

Tum na aaye toh kya sagar naa huwi, haa magar chain se basar na huwi, mere nala suna jamanene, ek tum ho jise khabar na huwi.
तुम न आए तो क्या सहर न हुई हाँ मगर चैन से बसर न हुई मेरा नाला सुना ज़माने ने एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई
Hazaroon khwahishe aisi ki har kwahish pe dam nikle, bahut nikle mere aarman lekin firbhi kam nikle.

ghalib shayari on life in hindi | galib ki shayari in hindi on love | mirza ghalib poetry in hindi

 

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले
Jala hai jism jaha dil bhi jala hoga, kuredteho jo ab raakh justaju kya hai.
जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है
Ranj Se Khugar Hua Insaan To Mit Jata Hain Ranj, Mushkile Mujh Par Padi Itani Ki Asaan Ho Gayi..
रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज। मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं।
Nikalana Khuld Se Adam Ka Sunate Aaye Hai Lekin, Bahut Be-Aabaru Ho Kar Kire Kunche Se Ham Nikale..
निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन। बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले।।

Shayari By Ghalib For Girlfriend

Na tha kuch toh khuda tha, kuch na hota toh khuda hota, duboya mujhko honene, na hota mai toh kya hota.

ghalib shayari in english | ghalib sher | mirza ghalib shayari in english

 

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता
Wo Aaye Ghar Me Hamare, Khuda Ki Kudarat Hai, Kabhi Ham Unako Kabhi Apane Ghar Ko Dekhate Hain..
वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं। कभी हम उनको, कभी अपने घर को देखते हैं।।
Ishq-Ne-Galib-Nikamma-Kar-Diya waena ham bhi aadmi the kuch kamke.
इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया। वर्ना हम भी आदमी थे काम के।।
N Shole Me Ye Larishma N Barq Me Ye Adaa, Koi Batao Ki Wo Shokhe-Tandukhu Kya Hain..
न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा। कोई बताओ कि वो शोखे-तुंदख़ू क्या है।।
Dard-Jab-Dil-Me-Ho-To-dawakijiye, dil hi jab dard ho toh kya kijiye.
दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए। दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।।
Koi Mere Dil Se Puchhe Tere Teer-E-Neem-Kash Ko, Ye Khalish Kaha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota..
कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को। ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।।
Dard-Minnat-Kash-E-Dawa-N-Hua-Mirza-Ghalib mai na accha huwa bura na huwa.
दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ। मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ।।

Mirza Ghalib Love Shayari In Hindi 2 Lines

Huyi Muddat Ki “Galib” Mar Gaya Par Yaad Aata Hai, Wo Har Ek Baat Pe Kahata Ki Yun Hota To Kya Hota..
हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है। वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता।।
Kitana-Khauf-Hota-Hai-Mirza-Ghalib  puch un parindon se jinke ghar nahin hote.

ghalib best sher | mirza ghalib shayari in hindi | best shayari of mirza ghalib

 

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में। पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते।
Dil-E-Nadan-Tujhe-Hua-Kya-Hain-Galib Aakhir is dard ki dawa kyahai
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है। आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।।
Vaiz Teri Duwaon Me Asar Ho To Masjid Ko Hilake Dekh, Nahi To Do Ghut Pee Aur Masjid Hilata Dekh..
वाइज़!! तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिलाके देख। नहीं तो दो घूंट पी और मस्जिद को हिलता देख।।
Kaha May-Khane Ka Darwaza “Galib” Aur Kaha Vayiz, Par Itana Janate Hain Kal Wo Jata Tha Ki Ham Nikale..
कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज़। पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले।।

Mirza Ghalib Best Lines On Beauty

Ye N Thi Hamari Kisamat Ki Visaal-E-Yaar Hota, Agar Aur Jeete Rahate Yahi Intizaar Hota..

mirza ghalib love shayari in english | ghalib quotes on love in hindi | mirza ghalib 2 line shayari

 

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता। अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता।।
Bana Hai Shah Ka Musaahib Fire Hai Itraana, Vagana Shahar Me “Galib” Ki Abaru Kya Hai..
बना है शह का मुसाहिब, फिरे है इतराता। वगर्ना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है।।
Un-Ke-Dekhe-Se-Jo-Aa-Jati-Hai-Munh-Pe-Raunak – Wo samajhte hai- ke- bimar- ka haal- accha hai.
उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़। वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।
Kaba Kis Muh Se Jaoge “Galib”, Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati..
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’। शर्म तुम को मगर नहीं आती।
Nikalna khuldse  aadam ka sunte aaye hai lekin, bahut be aabroo hokar tere kunchese ham nikle’.
निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

Ghalib Two Line Poetry On Beauty

Ishk mujhko nahi washahat hi sahi, meri washahat teri shohorat hi sahi.
इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही
Karz Ki Peete The May, Lekin Samjhate The Ki Ha, Rang Lavegi Hamari Faka-Masti Ek Din.
क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां। रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।
Nazar Lage Na Kahi Usake Dast-O-Baju Ko, Ye Log Kyun Mere Zakhme Jigar Dekhate Hai..

ghalib shayari hindi | mirza ghalib shayari on love | mirza ghalib shayari love

 

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को। ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।
Jan dar hawaye yak nigaha ye garm hai Asad, parwana hai wakil tere dad khwaha ka.
जाँ दर-हवा-ए-यक-निगाह-ए-गर्म है ‘असद’ परवाना है वकील तिरे दाद-ख़्वाह का
Apne gali me mujhko na kar dafn baad ye katla, mere patese khalf ko kyon tera ghar mile.
अपनी गली में मुझ को न कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल मेरे पते से ख़ल्क़ को क्यूँ तेरा घर मिले

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 4 Lines

Bagicha-E-Atafaal Hai Diniya Mire Aage, Hota Hai Shab-O-Roz Tamasha Mire Aage..
बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे। होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे।
Aah-Ko-Chahaiye-Ek-Umar-Asar-Hote-Tak-Mirza-Ghalib, kaun jeeta hai tere julf ke saar hote tak
आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक। कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।
Ye Rashk Ki Wo Hota Hai Hamsukhan Hamase, Warana Khuf-E-Bdamoji-E-Adu Kya Hai..
ये रश्क है कि वो होता है हमसुख़न हमसे। वरना ख़ौफ़-ए-बदामोज़ी-ए-अदू क्या है।
Wo Chiz Jisake Liye Hamako Ho Bahisht Azez, Siwaye Bada-E-Gulfaam-e-E-Mushkabu Kya Hai..
वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़। सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है।।
Piyun Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lu Do Char, Ye Shisha-O-Kahad-O-Kuza-O-Subu Kya Hain
पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार। ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है।।

Mirza Ghalib 2 Line Poetry

Tere Zawahir Tarfe Kal Ko Kya Dekh, Ham Auze Tale Laal-O-Guhar Ko Dekhate Hai…
तेरे ज़वाहिरे तर्फ़े कुल को क्या देखें। हम औजे तअले लाल-ओ-गुहर को देखते हैं।।
Ye Ham Jo Hizr Me Deewaar-O-Dar Ko dekhate Hai, Kabhi Saba Ko, Kabhi Namaabar Ko Dekhate Hai..
ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं। कभी सबा को, कभी नामाबर को देखते हैं।
Chipak Raha Hai Badan Par Lahu Se Pairahan, Hamari Zeb Ko Ab Hajat-E-Rafu Kya Hai ..
चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन। हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है।
Rekhte Ke Tumhi Ustaad Nahi Ho “Galib”, Kahate Hai Agale Zamaane Me Koi Meer Bhi Tha
रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’। कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था।
Hua Jab Gham Se Yun Behish To Gham Kya Sar Ke Katane Ka” Na Hota Gar Juda Tan Se To Jahanu Par Dhara Hota..
हुआ जब गम से यूँ बेहिश तो गम क्या सर के कटने का। ना होता गर जुदा तन से तो जहानु पर धरा होता।

Shayari Of Ghalib On Ishq

Bas-KI-Dushwaar Hai Har Kaam Ka Aasaan Hona, Aadami Ko Bhi Mayassar Nahi Insaan Hona..
बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना। आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना।
Tere Wade Par Jiye Ham, To Yah Jaan, Jhuth Jana, Ki Khushi Se Mar N Jate, Agar Etbaar Hota..
तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना। कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।
Rahi N Takat-E-Guftaar Aur Agar Ho Bhi, To Kis Ummid Pe Kahiye Ke Aarzoo Kya Hai..
रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी। तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है।
kahan maikhaneka darwaja galib, aur kaha waiz par itna jante hai, kal wo jatatha ke ham nikle.
कहाँ मयखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज पर इतना जानते है कल वो जाता था के हम निकले..

Mirza Ghalib Lines

Aa ki meree jaan ko qarar naeeN hai taqat-e-bedad-e-aitbaar naheeN hai tu ne kasam may-kashee kee khaee hai ghalib teree kasam ka kuchh atibaar nahee hai
आ कि मिरी जान को क़रार नहीं है ताक़त-ए-बेदाद-ए-इंतज़ार नहीं है तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’ तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..! 
Ishrat ye katara hai dariya me fana ho jana, dard ka had se gujarna hai dawa ho jana.
इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना
Aashiki sabra talab aur tamanna betab, dilkakya rang karoo khoon e jigar hone ka.
आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब दिल का क्या रँग करूँ खून-ए-जिगर होने तक
Har dard-e-dil ki aawaz hai shayari, Gam-e-mohobbat ka saaz hai shayari, har likhne wale ka naaz hai shayari, Galib ka anmol alfaz hai shayari.

shayari of ghalib | shayari mirza ghalib in urdu | mirza ghalib ki shayari in english

 

हर दर्द ए दिल की आवाज है शायरी, गम ए मोहोब्बत का साज़ है शायरी, हर लिखने वाले का नाज़ है शायरी, ग़ालिब का अनमोल अल्फ़ाज़ है शायरी ।

Ghalib Shayari on Beauty

There’s nothing quite like a beautiful poem to express the inexpressible. And there’s nobody quite like Ghalib to capture the beauty of the world in words. In this blog, we’ll be exploring the enchanting world of Ghalib Shayari, and looking at the ways in which it captures the beauty of life.

Spread the love